ओ से ओखली : उर्ख्याली (ओखली)

“पा…….पा! पा…पा !” जूली रोते-रोते चिल्लाई | पास में पापा फ़ोन पर बात कर रहे थे | संदीप की नजर जोर से रो रही अपनी बेटी पर पड़ी जिसने अपनी रोने की आवाज से पूरा …

Read moreओ से ओखली : उर्ख्याली (ओखली)

Pahadi Women

नीमा की भिटौली : पहाड़ की लोककथा

चेत का महीना आधा बीत गया | बसंत की खुशबू पूरी तरह से घर की क्यारियों से लेकर  गाँव के खेतो से होकर जंगल के फूलों तक फ़ैल चुकी थी | बांज पर ताजे हरे …

Read moreनीमा की भिटौली : पहाड़ की लोककथा