उदास शाम की मायूसी

उदास शाम की मायूसी : एक झूठी प्रेम कहानी

एक उम्र या एक समय हर किसी के जीवन में ऐसा जरूर आता है ,  जब शामें उदास रहने लगती हैं , बिना सोचे भूख नहीं लगती है , हंसी तो आती है लेकिन हँसना-मुस्कुराना …

Read moreउदास शाम की मायूसी : एक झूठी प्रेम कहानी

मेरा कमरा , मेरा गुरुर

मेरा 10 बाई 10 का हवादार कमरा

आज तुम्हे एक बात बता रहा हूँ। इससे पहले भी कई बार ये राज की बात मैं तुमसे कहना चाहता था , लेकिन कभी कह न पाया । तुम सबसे कहती फ़िरती हो कि तुम …

Read moreमेरा 10 बाई 10 का हवादार कमरा

The 5 Second Rule

The 5 Second Rule: Just Do It (Hindi)

हेल्लो दोस्तों , हम अपने जीवन में बहुत कुछ पाना चाहते हैं , जिसके लिए हमें क्या क्या करना है हम जानते हैं | लेकिन दोस्तों दिक्कत तब महसूस होती है जब हम अपने कामों …

Read moreThe 5 Second Rule: Just Do It (Hindi)

gagari

“जून का महीना और गाँव का पंदेरा “

जब  भी  जून के महीने का नाम कहीं सुनाई देता है , तो  क्या सामने आता है ? भीषण गर्मी और गर्मियों की छुट्टियाँ ! जून का महीना फिर करीब आ रहा है, गर्मी और …

Read more“जून का महीना और गाँव का पंदेरा “

5 Best 5 Book on Public Speaking

5 Best Books on Public speaking

दोस्तों , THEAISHBLOG में आपका स्वागत है | इस blog में हम पब्लिक स्पीकिंग से जुडी हुई 5 सबसे बेहतरीन किताबो के बारे में जानकारी साझा कर रहे हैं | इससे पहले हमारे यह  जानना …

Read more5 Best Books on Public speaking

Garhwali Cooking

गाँव की प्रीती-भोज में गाँव वालो की भागीदारी

  शादी-ब्याह का सीजन इस बिखोती ( वैशाखी ) से शुरू हो गया है | एस ऐसे में शहर हो या गाँव , हर जगह एक रौनक छाने लगती है | और रौनक हो भी …

Read moreगाँव की प्रीती-भोज में गाँव वालो की भागीदारी

Pahadi Women

नीमा की भिटौली : पहाड़ की लोककथा

चेत का महीना आधा बीत गया | बसंत की खुशबू पूरी तरह से घर की क्यारियों से लेकर  गाँव के खेतो से होकर जंगल के फूलों तक फ़ैल चुकी थी | बांज पर ताजे हरे …

Read moreनीमा की भिटौली : पहाड़ की लोककथा

पौढ़ी का एक दिन

पौढ़ी शहर का एक दिन …

पौड़ी जिसकी ख़ूबसूरती के बारे आज हर कोई जानता है, वह भी कभी एक गाँव था, जो पौड़ी खाल के नाम से जाना जाता था | यहाँ की भौगोलिक सुन्दरता , मौसम और ठंडी जलवायु …

Read moreपौढ़ी शहर का एक दिन …

पहाड़ के लोकजीवन की गाथा सुनाने वाली एक किताब : मेरी यादों का पहाड़

हम सभी अपनी मातृभूमि से प्यार करते हैं और प्रकृति की गोद में जन्म लेने पर गर्व करते हैं | एक समय था जब हमें , पहाड़ी कहकर चिढाया जाता था , हमें तुच्छ समझा …

Read moreपहाड़ के लोकजीवन की गाथा सुनाने वाली एक किताब : मेरी यादों का पहाड़