हमें क्यों Get Smart by Brian Tracy पढनी चाहिये !!!!

क्या आपने कभी भी, कहीं भी अपने आप को दूसरों के मुकाबले कमज़ोर और हीन पाया है ? कभी स्कूल-कॉलेज में तेज तर्रार छात्रों को देखकर , अपने आप के प्रति निराशा हुई हो | कभी ऑफिस में स्मार्ट कर्मचारियों को देखकर अपने आप के प्रति शर्म सी महसूस की होगी |

दोस्तों अपने आप ऐसे हालातों में पाना , एक स्वाभाविक सी बात है | हम जिन प्रतिभाशाली लोगों की प्रशंसा करते हैं , वे दरअसल हमारी तुलना में अपने मस्तिस्क क्षमता का अच्छे से उपयोग करते हैं | यही एक बात होती है , जो उनको ख़ास बनाती है |

उनकी तरह हम भी अपने मस्तिस्क क्षमता का उपयोग कर सकते हैं | हम भी उनकी तरह प्रतिभाशाली और स्मार्ट बन सकते हैं | लेकिन कैसे ???

दोस्तों ब्रायन ट्रेसी की किताब Get Smart में वो सारी बातें बताई गयी हैं , जिन्हें हम अपने निजी जीवन में लाकर , अपने मस्तिस्क क्षमता का अधिक उपयोग करके स्मार्ट बन सकते हैं | साथ हम सीखते हैं कि दिमाग से सफलता की दिशा में कैसे काम करवाया जाता है |

एक बात हमेशा याद रखे , दिमाग हमारे शरीर का एक अंगमात्र है , हम दिमाग नहीं हैं , हम चाहे तो दिमाग को किसी भी दिशा में घुमा सकते हैं , नहीं तो दिमाग हमे तोड़ने-मरोड़ने के लिए हमेशा तैयार बैठा रहता है |

Hindi Book Summary : Get Smart

दृष्टिकोण को बदलना

 इस विषय को समझने के लिए मान लीजिये कि आपके दस लाख रूपये की शेष राशि वाला एक बैंक खाता है | लेकिन आप उन दस लाख रुपयों में से सिर्फ 20,000 रूपये ही खर्च क्र सकते हैं | यह बात काफी निराशाजनक है |  दोस्तों यही कांसेप्ट हमारे दिमाग की क्षमता का भी है | हमारे दिमाग की क्षमता तो है बहुत सारी , लेकिन हम मुश्किल से 3-4% ही उसे उपयोग में ला पाते हैं | बाकी का 97-98 % बेकार पड़ा हुआ रहता है|

हमारे पास लगभग 100 बिलियन मस्तिस्क कोशिकाएं होती हैं , और इनमें से प्रत्येक कोशिका लगभग 10 से 20 हजार अन्य कोशिकाओं से जुडी होती हैं |

हम अपने दिमाग की इस 100 % क्षमता का उपयोग कर सकते हैं | इसके लिए जरुरी है कि हम अपना दृष्टीकोण बदलें |

आप जीवन को कैसे देखते हैं और उसकी कैसे व्याख्या करते हैं , इसका अधिकतम लाभ उठाने के लिए यह अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है | उदाहरण के लिए आशावादी नजरिये वाला व्यक्ति संभावनाओं को अच्छे से देखेगा जबकि निराशावादी केवल समस्याएं और नकारात्मक प्रतिक्रियाएं देगा |  निराशावादी व्यक्ति , असफल होता जाता है, और वहीँ आशावादी व्यक्ति जीवन में सफलता के नये आयामों को छूता जाता है |

इसलिए गेट स्मार्ट किताब की पहली सीख यही है कि हमें अपने दिमाग की क्षमता अधिकतम उपयोग करने के लिए अपने दृष्टीकोण को बदलने की जरुरत है |

दूरदर्शी बने और तत्काल कार्यों का संयोजन करें :-

दोस्तों जब जीवन में योजना बनाने की बात आती है , तो हमारे पास दृष्टीकोण के दो विकल्प होते हैं | पहला ये कि अल्पकालिक सोच को अपनाकर ,अभी में आनंद लेने पर ज्यादा ध्यान केन्द्रित करें और दूसरा ये कि आप दीर्घकालिक सोच और योजना बना सकते हैं |

1970 में  हार्वर्ड के प्रोफ़ेसर एडवर्ड बानफील्ड ने देखा कि जिन लोगों के पास अधिक पैसा है , वे वे थे जो आगे की सोचते थे | ये हैं समाज के सबसे चतुर लोग | फिर भी उनकी स्मार्टनेस आसमानी आईक्यू हों इसे नहीं आई , यह उनके दृष्टिकोण से आई है , विशेष रूप से उनकी यह सोचने की क्षमता कि उनका प्रत्येक कार्य उन्हें उनके अंतिम लक्ष्यों के करीब कैसे लाएगा |

यह बात आज भी उतनी ही महत्वपूर्ण है | फ़ोर्ब्स के अनुसार , 2015 में 290 नए अरबपति थे , जिनमें से आधे से ज्यादा स्व-निर्मित थे और उन्होंने कुछ भी नहीं के साथ शुरुआत की थी | इस धन को एक स्थायी शुरुआअत से उत्पन्न करने के लिए , दीर्घकालिक योजना बनाना महत्वपूर्ण है |

इसके लिए आपको यह सोचना चाहिए कि आप पांच वर्षों में कहाँ होना चाहते हैं और फिर यह पता करें कि वहां पहुँचने के लिए आपको अभी क्या करना है | इसमें आपके कामम और व्यक्तिगत जीवन के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य और वित्तीय स्वतंत्रता का जायजा लेना और फिर इस जानकारी के आधार पर महत्वपूर्ण निर्णय लेना शामिल है |

एक बात हमेशा याद रखे कि सिर्फ महान योजना बनाने से काम नहीं चलता , आपको उस पर कारवाई करने की भी आवश्यकता है |

आप एक आरामदायक रिटायरमेंट के बारे में योजना बना रहें हैं  तो आपको अभी से सेवा में होने के बावजूद कुछ पैसे बाद के लिए भी  बचाने चाहिए |  सिर्फ आज की जरूरतों और आज के आनंद में अपना सब कुछ खर्च नहीं करना चाहिए |

भावनाओं में न बहें :-

हमारे दिमाग में हर पल सैकड़ों विचारों के बुलबुले उठते रहते हैं | और हम लोग इन तेज , क्षणभंगुर विचारों के बुलबुले से खुद को आवी होने देते हैं | तार्किक और बुध्दिमानी से सोचने के लिए अपने मस्तिस्क का उपयोग करने के बजाय , हम भावनाओं में बहकर ,प्रतिक्रियाशील  विचारों को अपने कार्यों को निर्धारित करने की अनुमति देते हैं |

उदाहरण के लिए जब पढ़ रहे होते हैं तो हमारे फोन का एक नोटिफिकेशन , हमे मजबूर करता है कि हम फोन को हाथ में लेकर उसे खोले | या जब कोई हमें चिढाता है , तो हमारे तत्काल , क्रोधित विचार अक्सर हमें कोड़े मारने के लिए प्रेरित करते हैं |

हम अपने मस्तिस्क का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकते हैं | सोचने की धीमे , अधिक तर्कसंगत प्रक्रिया है जहाँ हम सभी विकल्पों का वजन करते हैं और निर्णय लेते हैं |

कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने से 72 घंटे पहले लेना एक अच्छी रणनीति है | यह आपको विभिन्न विकल्पों पर सावधानीपूर्वक विचार करने के लिए पर्याप्त समय देगा |  रोज अपने आप को 30 से 60 मिनट के लिए  एकांत में ले जाए , जहां शान्ति में रहकर आपके दिमाग में विचारों की नदी बहती रहे |

जीवन की रेल पटरी पर बनाये रखने के लिए , लिखित लक्ष्य होने चाहिये :-

आज के व्यस्त , अति-गतिशील दुनिया में , हममें से कई लोग अभिभूत हो जाते हैं | हमारा जीवन हर नए बदलाव का जवाब देने और उसके साथ बने रहने के लिए एक निरंतर संघर्ष की तरह लगता है | यदि आप अपना जीवन इस तरह व्यतीत करते हैं , तो आप कभी भी सफल नहीं होंगे |

स्पष्ट लक्ष्य रखने वालो को इस बात का बेहतर पता होता है कि कौन सी चीज उनके लिए महत्वपूर्ण है और किसे अनदेखा करना है | साथ ही वे जानते हैं कि वे अंतत: कहाँ होना चाहते हैं , लक्ष्य वाले लोग परिवर्तन के सामने अधिक आसानी ससे अनुकूलित हो सकते हैं |

उनके महत्व के बावजूद , वास्तविक लक्ष्य बहुत दुर्लभ हैं | केवल तीन प्रतिशत लोगो के पास जीवन के स्पष्ट लिखित लक्ष्य होते हैं | यदि आप पहले से उस तीन प्रतिशत में से नहीं हैं , तो आपको अभी उनसे जुड़ना चाहिए |

सबसे पहले कुछ कागज़ पकड़ो , और उन पर अपने लक्ष्य लिखना शुरू करें | लक्ष्य सबसे प्रभावी होते हैं जब उन्हें दृश्यमान बनाया जाता है |

सोचे और लिखे कि आप इस एक साल में क्या पाना चाहते हैं , आप कहाँ पहुँचना चाहते हैं |  उन दस चीजों के बारे में सोचे जो आप करना चाहते हैं |

अपने लक्ष्यों को लिखते समय वर्तमान काल का उपयोग करें , उन्हें व्यक्तिगत बनाये और सुनिश्चित करें कि वे सकारात्मक हैं |

उदाहरण के लिए :- मैं 31 अगस्त तक अपना उपन्यास पूरा कर रहा हूँ |  यदि आप जंक फ़ूड छोड़ना चाहते हैं  तो आप नकारात्मक शब्दों का प्रयोग नहीं करेंगे – “ जंक फ़ूड खाना बंद करो “| बल्कि ,” मैं इ स्वस्थ खाने वाला व्यक्ति हूँ” |

अपने लिखे हुए लक्ष्यों की रोज जांच करें और उनके मुताबिक़ अपनी दिनचर्या बनाये | आप देखोगे कि आपके जीवन को एक दिशा मिलती रहेगी |

काम को न टालें :-

दोस्तों हम लोग दरअसल किसी भी बड़े काम को एक बार मे पूरा करने की कोशिश करते है | तो उसके कठिन होने की वजह से हमारे अंदर टालने वाला कीड़ा उस काम को देता है| इस तरह हम, अपने टाइम का एक बड़ा हिस्सा, बिना कुछ करे, बिता देते हैं|  और फिर, डेडलाइन से ठीक पहले, एक ही बार में सभी चीजों को करने की कोशिश करके परेशान होते है ।

 इसका उदहारण आप उन छात्रों  द्वारा  परीक्षा के आखिरी रात बिना सोये खाए पिए पढने में देख सकते हैं |

इसके लिए आप पोमोडोरों तकनीक का प्रयोग कर सकते हैं |

The Pomodoro Technique

Brian Tracy की बेस्टसेल्लिंग किताबों की समरी

Eat That Frog book summary in Hindi

How to Get everything you want: Goals Book Summary

इस किताब की पीडीऍफ़ फाइल पाने के लिए हमसे जुड़े | Telegram , Instagram, Facebook

Leave a Comment